Breaking News
  1. बिटीया फाउंडेशन ने 5 साल में 5 हजार मामले सुलझाए: सीमा सांख्यान


    मधु बाला मनाली

    कहा: समाज की भलाई के लिए हर समय तैयार रहेती है बिटीया फाउंडेशन

    देश के 15 राज्यों में चलाया है गुड डच बेड टच जागरूकता अभियान

जिला मुख्यालय स्थित जायका में बिटीया फाउंडेशन की राष्ट्रीय अध्यक्ष सीमा सांख्यान ने पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि बिटीया फाउंडेशन पिछले 15 सालों से समाज की बुराइयों और महिलाओं के साथ होने बाली हिंसा को खत्म करने के लिए काम कर रही है। उन्होंने कहा कि बिटीया फाउंडेशन ने 5 सालों में महिलाओं से जुड़े 5 हजार मामले सुलझाएं हैं। उन्होंने कहा कि कन्या भ्रूण हत्या, रेप केस, दहेज प्रथा, समाज से ठुकराई महिलाएं, घरेलू हिंसा आदि मामलों को बिटीया फाउंडेशन गंभीरता से लेते हुए काम कर रहा है।

उन्होंने कहा कि बिटीया फाउंडेशन ने गरीब बेटियों की पढ़ाई एवं शादी करवाने का बीड़ा भी उठाया है। अभी तक 10 से अधिक बेटियों की शादी फाउंडेशन करवा चुका है। उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों का सबसे बड़ा कारण सोशल मीडिया, नशा और समाज की निम्न सोच है जिसके कारण आज महिलाएं सुरक्षित नहीं। उन्होंने कहा कि समाज में जिन लड़कियों के साथ रेप , घरेलू हिंसा जैसी घटनाएं होती है तो बिटीया फाउंडेशन उन सभी लड़कियों को समाज में उनका अधिकार दिलाने के लिए प्रयास रहेती है।


सीमा सांख्यान ने बताया कि बिटीया फाउंडेशन द्वारा गुड डच बेड टच के बारे में जागरूकता अभियान भी छेड़ रखा है। यह अभियान देश के 15 राज्यों में चला रखा है। उन्होंने बताया कि बिटीया फाउंडेशन महिला दिवस के दौरान अलग अलग जिलों में ऐसी महिलाओं को सम्मानित भी करती है जिन्हें समाज ने ठुकरा दिया होता है। साथ ही उन्होंने बताया कि भविष्य में जिला कुल्लू मेंं महिलाओं एवं पुरूषों के लिए एक आवार्ड समारोह का आयोजन किया जाना प्रस्तावित है।

Related Post

घुमारवीं: आसमान से बरसी आफत #आठ परिवार बेघर,पशु लापता

Posted by - August 18, 2019 0
घुमारवीं: आसमान से बरसी आफत #आठ परिवार बेघर,पशु लापता विनोद चड्ढा बिलासपुर घुमारवीं: उपमंडल के के बदाघाट के करयालग गांव…

बिलासपुर में दिखी लोक कला और जनजातीय संस्कृति की झलक

Posted by - March 29, 2019 0
बिलासपुर में दिखी लोक कला और जनजातीय संस्कृति की झलकझलकl विनोद चड्ढा कुठेड़ा बिलासपुर लोक संगीत और नृत्य जनजातीय संस्कृति…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *