न देख मुकदर पिछ्ये मुड़ कर तुझे, मंजिल को पाना है,न मचलना राहों में चाँद को देख कर तुझे तो दोस्त चाँद बनकर आसमा को चमकाना है—– लक्ष्मी उर्फ़ एम्मी

विनोद चड्ढा बिलासपुर

एक मुलाकात खास बात में आज हम आपको मिला रहे है एक ऐसी मॉडल और एक्टिंग की बादशाह के नाम से जाने जानी बाली उत्तरप्रदेश की लक्ष्मी उर्फ़ एम्मी ने FNI न्यूज़ चैनल के हिमाचल बिर्रो चीफ विनोद चड्ढा से बातचीत में अपने जीबन के कुछ पहलू साँझा किये।

उन्होंने अपने जीबन से जुड़ी बातो में कहा कि बो उत्तर प्रदेश से सबंध रखती है और एक गरीब फैमली से विलोम करती है बचपन से उन्हें मॉडलिंग और एक्टिंग का बहुत सौक था बो आने स्कूल टाइम से ही एक्टिंग और मॉडलिंग कर रही है।
मगर जैसे जैसे उन्होंने अपने स्कूल की फढाई के साथ साथ कई क्षेत्रों में कदम वढ़ाने लगी बो स्कूल में पढाई में एक अछि छात्रा हुआ करती थी ।

बचपन में स्कूल प्रोग्राम में छोटी छोटी एक्टिंग कर उसने सबके दिलों में अपनी एक अलग पहचान बनाई
और ऐसी एक्टिंग के दम पर उन्होंने स्कूल टाइम में काफी अवॉर्ड भी मिल चुके था।साथ में बो मॉडलिंग में भी अपने कदम रख चुकी थी आज बो मॉडलिंग में अपना करियर बना रही है।

उन्होंने बताया कि बो कुछ साल पहले मिस उत्तराखण्ड कयूंन के लिए सलैक्ट हुई थी मगर उनकी हाइट की बजह से बो उसमे भाग नही ले पाई।
आज बो एक्टिंग की की दुनिया में कई ख़िताब जित कर अपने उत्तरप्रदेश का नामरोशन कर चुकी है

उन्हें कई जगह पर जज की भूमिका निभाने का भी मौका मिला जो उनकी काबलियत को और ज्यादा निखारता है बो उत्तरप्रदेश की बहुत कम उम्र में बहुत बुलंदियों को छू चुकी है

उनके माता पिता किसान है ।और खेती बाड़ी कर बहुत मुश्किल से घर का खर्चा चलते थे लेकिन आज बो एक्टिंग कर अपने भाई बहन और घर का ख़र्चा चला रही है ।जो एक गर्व की बात है।

उन्होंने अपने दम पर उत्तरप्रदेश का नाम किया जो अपने आप में एक गर्व की बात है।
लक्ष्मी उर्फ़ एम्मी ने बताया कि बो भी बक्त था जब उनके घर में टीवी नही होता था और लोगो के घरों में जा कर टीबी देखना पड़ता था बस उन्होंने मन में कुछ करने की ठानी और निकल पड़ी एक्टिंग की दुनिया में जिसके लिए न तो उसकी फैमली के पास पैसा था न कोई कोचिंग क्लास लकिन अपने दम पर उन्होंने एक्टिंग का आज पूरे उत्तरप्रदेश में लोहा मनवा चुकी है

लक्ष्मी उर्फ़ एमी ने वताया की ऐसा कोई मंजिल नही जिसे पाना मुश्किल हो मगर दिल में होंशल होना चाहिए मंजिल खुद बे खुद आपके कदम चूमती है बस दिल में कुछ करने की तमना होनी चाहिए। सफलता पाने के लिए खुद की जिदगीं से जंग लड़नी पड़ती है। हमारा सबसे खूबसूरत साथी हमारी मेहनत होती है ,हमारा दूसरों के प्रति व्यवहार होता है ,बातो से केवल मनोरंजन होता हैं पर काम करने से जीवन मजबूत होता है ।


लक्ष्मी उर्फ़ एम्मी का कहना है कि न देख मुकदर पिछ्ये मुड़ कर तुझे, मंजिल को पाना है,न मचलना राहों में चाँद को देख कर तुझे तो दोस्त चाँद बनकर आसमा को चमकाना है

लक्ष्मी ने युवा पीठि से आव्हान किया है कि बो नशे को त्याग कर अपने जीबन को सही दिशा में लगाये ताकि आने बाला जीबन खुशाल हो सके । बचो को अपने लक्ष्य को निर्धारित करना चाहिए और हर पल उस पर अपना ध्यान केंद्रित करना चाहिए और जब तक बो अपने लक्ष्य प्राप्त नही कर लेते तब तक महेनत करना नही छोड़नी चाहिए तभी मंजिल सम्भव है।उन्होंने लोगो से भी आव्हान किया कि बो लड़का और लड़की को एक समान समज्झे कु की आज की लड़की लड़को से कहि ऊपर है आज लड़की हर क्षेत्र में अपने माँ पाप् का नाम रोशन कर रही है

Related Post

स्वारघाट गांव में फैली डायरिया की बीमारी –हिमाचल न्यूज़ विनोद चड्ढ़ा

Posted by - December 1, 2018 0
डायरिया को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने काथला गांव रवाना की टीम कुछ लोगों में पाए गए डायरिया के लक्षण स्वारघाट…

हमीरपुर संसदीय सीट से बिलासपुर के तेजस्वी शर्मा का नाम भी चर्चा का विषय

Posted by - March 31, 2019 0
हमीरपुर संसदीय सीट से बिलासपुर के तेजस्वी शर्मा का नाम भी चर्चा का विषय विनोद चड्ढा कुठेड़ा बिलासपुर दिग्गजों की…

ग्रेटर मुम्बई फिल्म फेस्टिवल में भाग लेंगे कई नामचीन सितारे : पायल

Posted by - June 30, 2019 0
ग्रेटर मुम्बई फिल्म फेस्टिवल में भाग लेंगे कई नामचीन सितारे : पायल विनोद चड्ढा कुठेड़ा बिलासपुर मुम्बई में होने वाले…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *