जिलाधिकारी सी रविशंकर ने रोग नियंत्रण कार्यक्रम

77 0

जिलाधिकारी श्री रविशंकर ने
रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत मलेरिया और डेंगू की रोकथाम को लेकर आला अधिकारियों से की बैठक

देहरादून दिनांक 11 जुलाई 2019, जिलाधिकारी सी रविशंकर की अध्यक्षता में राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत मलेरिया और डेंगू की रोकथाम हेतु जनपद के अन्र्तर विभागीय अधिकारियों के समन्वय और सहयोग हेतु कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक आयोजित की गई
बैठक में जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग और वेक्टर जनित रोग नियंत्रण अधिकारी से मलेरिया और डेंगू की रोकथाम हेतु पूर्व में किए गए कार्यों, आकस्मिक सूचना पर तत्काल रिसपोंस मैकेनिज्म, विभिन्न क्षेत्रों में फाॅगिंग, चूना डालना, रुके हुए पानी की निकासी के साथ ही सीएचसी, पीएचसी और ग्राउंड लेवल से सही और त्वरित रिपोर्टिंग और विभिन्न विभागों से समन्वय इत्यादि बिंदुओं पर बनाए गए मैकेनिज्म की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने चिकित्सा विभाग को फील्ड से और पीएचसी- सीएचसी से रिपोर्टिंग की वर्तमान स्थितियों में सुधार करने और बैठक में संसाधन और कार्यों का स्पष्ट विवरण अगली बैठक में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने ब्लड बैंक में वास्तविक आंकड़ों को अद्यतन रखने तथा ब्लॉक लेवल पर इन बीमारियों की रोकथाम हेतु जमीनी स्तर पर प्रयास करने के निर्देश दिए। उन्होंने शिक्षा विभाग को स्कूली बच्चों के माध्यम से वेक्टर जनित रोगों से बचाव के संबंध में जागरूक करने, पंचायती राज विभाग को लोगों को और जनप्रतिनिधियों को ग्राम सभा की बैठक में जागरूक करने के साथ ही सिंचाई विभाग, पेयजल निगम, जल संस्थान व लोक निर्माण विभाग को अपने-अपने कार्य क्षेत्रों में निर्माण व सुधारीकरण साइट पर रुके हुए पानी की निकासी दुरुस्त करने, नगर निगम,नगर पालिका व ग्राम पंचायतों को अपने-अपने क्षेत्रों में साफ-सफाई करने तथा कूड़ा निस्तारण की समुचित व्यवस्था करने के निर्देश दिए, जिससे जल जनित रोग ना पनप सकें। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को माॅनीटरिंग व्यवस्था को दुरुस्त करने तथा जनपद के अन्य संबंधित विभागों को उनके द्वारा किए जाने वाले प्रयासों के समन्वय हेतु उनकी ओर से स्पष्ट निर्देश जारी करने के निर्देश दिए, साथ ही सभी विभागों को अपने स्तर पर भी जनजागरूकता चलाने के निर्देश दिये।
इससे पूर्व बैठक में चिकित्सा विभाग और वेक्टर जनित नियंत्रण अधिकारी द्वारा प्रेजेंटेशन के माध्यम से मलेरिया और डेंगू जैसी वेक्टर जनित बीमारियों, उसके कारण उसके बचाव के उपाय के साथ ही जनपद में इसके संवेदनशील क्षेत्रों के बारे में अवगत कराया गया। उन्होंने प्रजेंटेशन के माध्यम से अवगत कराया कि मलेरिया और डेंगू के पनपने का सबसे बड़ा कारण किसी भी माध्यम से रुका हुआ जल है रुके हुए जल में मच्छर अंडे देते हैं। इसके निवारण हेतु रुके हुए जल को हटाना जरूरी है साथ ही पर्याप्त मात्रा में साफ-सफाई और कूड़ा निस्तारण होना जरूरी है। उन्होंने अवगत कराया कि अधिकतर वह लोग इससे ज्यादा प्रभावित होते हैं जो अधिकतर पलायन करते रहते हैं साथ ही निर्माण क्षेत्रों में ,स्लम बस्ती में और गंदे व जलभराव वाले क्षेत्रों में यह रोग अधिक पनपते हैं। डेंगू व मलेरिया रोग से गर्भवती महिला, छोटे बच्चो,ं बुजुर्ग और बीमार व्यक्ति हाई रिस्क पेशेंट की श्रेणी में आते हैं। इसके मद्देनजर बैठक में लोगों को जागरूक करने पर जोर दिया गया ताकि लोग घरों में छत पर और अपने आसपास कहीं पर भी ठहरे हुए जल को हटा दें।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ0 एस के गुप्ता, मुख्य शिक्षा अधिकारी आशा पैन्यूली जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास क्षमा बहुगुणा एवं जनपद के सरकारी चिकित्सालयों के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी व कार्मिक उपस्थित थे

जिला सूचना अधिकारी देहरादून

Related Post

कोतवाली ज्वालापुर के कोतवाल मनोज कुमार मेनवाल ने शिव भक्तों का किया अभिनंदन

Posted by - July 25, 2019 0
ज्वालापुर कोतवाल मनोज कुमार मेनवाल ने शिवभक्तों को वितरित किया जलपान कोतवाली ज्वालापुर के कोतवाल मनोज कुमार मेनवाल ने शिव…

मुख्यमंत्री महिला उद्यमिता प्रोत्साहन योजना जल्द शुरू होगी

Posted by - August 15, 2019 0
हरिद्वार। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मा0 मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा राज्य के लिए की गयी घोषणाएंे। जिलाधिकारी…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *