Breaking News

नदी का रपटा बड़े हादसे को दे रहा है न्यौता फिर हुआ ध्वस्त बड़ी गाड़ियां धंसी चक्का जाम

307 0

    नदी का रपटा बड़े हादसे को दे रहा है न्यौता फिर हुआ ध्वस्त बड़ी गाड़ियां धंसी चक्का जाम

रिपोर्ट नौशाद अली

पथरी क्षेत्र
ज्वालापुर से इक्कड़ कला होते हुए लक्सर जाने वाले मुख्य मार्ग पर पड़ने वाले नदी के रपटे की हुई हालत खस्ता बरसात के चलते फिर धसनी शुरू हुई गाड़ियां आवाजाही करने वाले राहगीरों को करना पड़ रहा है कठिनाइयों का सामना रपटे में पड़े हुए पाइप टूट रहे जो बड़ी घटना को न्योता दे रहे है जिससे बड़े खतरे का अंदेशा साफ तौर पर जाहिर हो रहा है आपको बताते लगातार बारिश के चलते नदी में पानी बढ़ता है तो यह रपटा पानी के तेज भाव में खत्म हो जाएगा और रास्ता पूर्ण रूप से बंद हो जाएगा अब अगर बात की जाए कांवड़ मेले की तो कांवड़ मेले में पद यात्रा करने वाले शिवभक्त इस रास्ते से गुजरते हैं फोर व्हीलर टू व्हीलर वाहन भी इस मुख्य मार्ग से गुजरते हैं जिनके लिए यह रपटा बड़ी किल्लत पैदा कर सकता है किसानों की माने तो किसानों ने लगातार इस रपटे को लेकर विरोध जताया है लेकिन सरकार द्वारा इस रपटे पर कोई खास ध्यान नहीं दिया गया है अधिशासी अभियंता की बात की जाए तो वह भी इसमें पाइप डालकर रास्ता चालू कर देते हैं लेकिन सही तरीके से इस को सुचारु नहीं किया जाता और खानापूर्ति पूरी कर राज्य सरकार को लाखों का चूना लगाया जाता है लेकिन बरसात आते ही यह रपटा कई विभागों की पोल खोल देता है यह ज्वालापुर से लक्सर का मुख्य मार्ग है जो 140 से 150 गांव को जोड़ता है और किसान पशुओं के लिए चारा दूध वाले स्कूली छात्र-छात्राएं इसी रास्ते से गुजरते हैं जिनको भारी बरसात के चलते भारी समस्याओं से जूझना पड़ता है और ज्वालापुर जाने के लिए लगभग 10 किलोमीटर का चक्कर काटके जाना होता है वहीं किसान जाबिर मेहरबान रणजीत इरफान राम सिंह अकबर जान इलाही अल्ताफ शहीद हसन रामवीर रणजीत आदि लोगों ने बताया कि किसानों के साथ साथ जो मंडी सब्जी लेकर जाते हैं और सब्जी लेकर आते हैं और स्कूल के छात्र छात्राओं को हरिद्वार शहर जाने व दूध ले जाने वाले लोगों की भी दुर्गति हो जाती है किसानों ने बताया कि पिछले वर्ष भी इस रपटे में कई गाड़ियां पलट चुकी है और एक मृत्यु भी हो गई थी लेकिन अधिशासी अभियंता की बात की जाए तो उनकी ओर से सिर्फ अभी तक आश्वासन ही दिया गया है कि इस रपटे का पुल निर्माण के लिए प्रस्ताव भेजा हुआ है जो जल्द ही स्वीकृत कर लिया जाएगा और पूल कार्य का निर्माण चालू कर दिया जाएगा लेकिन किसानों ने बताया कि 3 साल से यही आश्वासन दिया जा रहा है लेकिन अभी तक इसमें कोई भी कार्य चालू नहीं किया गया है डबल इंजन की सरकार इन नदी के रपटों में आकर ध्वस्त हो गई है

Related Post

प्रधानमंत्री के समय पर लिए गए साहसिक निर्णय से देश आज खुद को सुरक्षित महसूस कर रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत

Posted by - April 27, 2020 0
प्रधानमंत्री के समय पर लिए गए साहसिक निर्णय से देश आज खुद को सुरक्षित महसूस कर रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र…

रानीखेत पुलिस ने शिक्षण संस्थानों में लगाये ड्राप बाक्स

Posted by - December 23, 2019 0
सल्ट उत्तराखंड: रानीखेत पुलिस ने शिक्षण संस्थानों में लगाये ड्राप बाक्स सल्ट उत्तराखंड: अल्मोड़ा :- अल्मोड़ा एसएसपी पीएन मीणा से…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *